Wednesday, April 22, 2015

'अहसास एक पल'

आप सभी पाठक मित्रों को बताते हुए हर्ष हो रहा है कि आप सभी के स्नेह एवं आशीर्वाद से 'अहसास एक पल' साँझा संकलन में मेरी रचनाएं भी शामिल हो पायी हैं। रचनायें जब पुस्तक का रूप लेती हैं तो मन को मीठा-मीठा सा आभास होना स्वाभाविक है। क्योंकि यह मेरी पहली पुस्तक है अन्य रचनाकार मित्रों के साथ तो ख़ुशी और बढ़ जाती है। आपको यह भी बता दूँ कि पुस्तक विमोचन झुंझुनू राजस्थान में हुआ इस अवसर पर मैंने स्वयं मंच संचालन किया जो की ताज़गी भरा अनुभव रहा। झुंझुनू के सभी अखबारों में हमारी चर्चा रही तो बात और मीठी हो जाती है। पुस्तक का कवर आपके साथ साँझा करना चाहूंगी। यदि पाठक मित्र चाहें तो प्रति ले सकतें हैं http://www.flipkart.com/ahsas-ek-pal/p/itme65qc9vwahzkj?pid=9788192493633 इस लिंक पर जाकर।
 
 



अपना स्नेह बनायें रखियेगा।
सादर
परी ऍम. 'श्लोक'
 
 

17 comments:

  1. बहु-बहुत बधाई एवं शुभकामनाएँ !

    ReplyDelete
  2. बहु-बहुत बधाई एवं शुभकामनाएँ !

    ReplyDelete
  3. बधाई एवं शुभकामनाएँ ! आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (24.04.2015) को "आँखों की भाषा" (चर्चा अंक-1955)" पर लिंक की गयी है, कृपया पधारें और अपने विचारों से अवगत करायें, चर्चा मंच पर आपका स्वागत है।

    ReplyDelete
  4. हार्दिक बधाई एवं शुभकामनायें परी जी !

    ReplyDelete
  5. बधाई एवं शुभकामनायें

    ReplyDelete
  6. परी जी 'अहसास एक पल' के प्रकाशन हेतु आप को हार्दिक बधाई .....मंगलकामनाएँ

    ReplyDelete
  7. हार्दिक बधाई और शुभकामनायें परी जी ... ऐसे ही और प्रकाशन होते रहें ... आमीन ...

    ReplyDelete
  8. हार्दिक बधाई और शुभकामनायें परी जी

    ReplyDelete
  9. many many congratulation for your book...

    ReplyDelete
  10. हार्दिक बधाई और शुभकामनायें :)

    ReplyDelete
  11. Nice Article sir, Keep Going on... I am really impressed by read this. Thanks for sharing with us.. Happy Independence Day 2015, Latest Government Jobs. Top 10 Website

    ReplyDelete
  12. बहुत ही सुंदर—अहसास एक पल.
    बधाई.

    ReplyDelete
  13. हार्दिक बधाई

    ReplyDelete
  14. बहुत-बहुत बधाई एवं शुभकामनाएं परी जी ...! आप इसी तरह भविष्य में भी अग्रेसर होती रहे यही शुभेच्छा .

    ReplyDelete
  15. haardik shubhkamnaye...truly a wonderful feat !!!

    ReplyDelete
  16. परी जी पुस्तक के लिए हार्दिक शुभकामनाएं ।
    आप का लेखन यूं ही सफल होता रहे । साथ ही पुस्तक वाणिज्यियक रूप से भी सफल हो ।

    ReplyDelete
  17. हार्दिक बधाई और शुभकामनाएँ

    ReplyDelete

मेरे ब्लॉग पर आपके आगमन का स्वागत ... आपकी टिप्पणी मेरे लिए मार्गदर्शक व उत्साहवर्धक है आपसे अनुरोध है रचना पढ़ने के उपरान्त आप अपनी टिप्पणी दे किन्तु पूरी ईमानदारी और निष्पक्षता के साथ..आभार !!