Wednesday, January 14, 2015

"शहर का मौसम"


धूप है
न झड़ी ओस की

दिन के जिस्म से उठता हुआ
धुँआ भी नहीं

बर्फ की बौछार है
न रूखापन फ़ज़ाओं में

निगाहों के आस-पास
हरा-भरा है मंज़र

काले दुपट्टे से
कुछ बूँदें टपक रही है

गुलाबी जमीन
और भी गुलाबी हो गयी है

हवाओ का तन भीगा-भीगा सा है
 
आज मेरे शहर का मौसम गीला सा है
 
________________
© परी ऍम. 'श्लोक'

22 comments:

  1. बहुत सुन्दर . मकर संक्रांति की हार्दिक शुभकामनाएं !
    नई पोस्ट : गुमशुदा बौद्ध तीर्थ

    ReplyDelete
  2. गरारा मौसम का आज ढीला हो गया
    सर्द मौसम भी बेहद रंगीला हो गया
    ये कुदरत भी नाय़ाब करिश्मा है दोस्तों
    के देखते ही देखते शहर गीला हो गया

    अज़ीज़ जौनपुरी

    ReplyDelete
  3. वाह परी जी वाह ...जिस नजाकत से आप ने बयां किया है शहर का मौसम ...बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर ............आज मेरे शहर का मौसम गीला सा है

    ReplyDelete
  5. भीगता भी कैसे मन तो पहले से गीला हुआ है।
    सर्द रचना।

    ReplyDelete
  6. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 15-01-2015 को चर्चा मंच पर दोगलापन सबसे बुरा है ( चर्चा - 1859 ) में दिया गया है ।
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  7. वाह ! बहुत ही भीगा भीगा सा मौसम है और भीगी भीगी सी आपकी रचना है जो हमें भी भिगो गयी ! बहुत सुन्दर !

    ReplyDelete
  8. आ हा गजब....

    'मतलब कि मौसम परी सा हुआ है'

    ReplyDelete
  9. काले दुपट्टे से
    कुछ बूँदें टपक रही है
    गुलाबी जमीन
    और भी गुलाबी हो गयी है-----
    मन को मसोसता महीन अहसास
    मन को छूती अभिव्यक्ति -----

    ReplyDelete

  10. बहुत बढ़िया ...
    मकर सक्रांति की हार्दिक शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    मकर संक्रान्ति की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  12. शहर प्रेम की नमी में डूबा है ... इसलिए गीला है ... बहुत खूब लिखा है ...

    ReplyDelete
  13. बेहद भावनात्मक रचना है ।बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  14. बेहद भावनात्मक रचना है ।बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  15. बहुत ही भीगा भीगा सा मौसम है

    ReplyDelete
  16. बर्फ की बौछार है
    न रूखापन फ़ज़ाओं में

    निगाहों के आस-पास
    हरा-भरा है मंज़र

    काले दुपट्टे से
    कुछ बूँदें टपक रही है
    बेहद भावनात्मक रचना है ।बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  17. वाह आज मेरे शहर का मौसम गीला सा 1....बहुत सिंदर !!

    ReplyDelete

मेरे ब्लॉग पर आपके आगमन का स्वागत ... आपकी टिप्पणी मेरे लिए मार्गदर्शक व उत्साहवर्धक है आपसे अनुरोध है रचना पढ़ने के उपरान्त आप अपनी टिप्पणी दे किन्तु पूरी ईमानदारी और निष्पक्षता के साथ..आभार !!