Thursday, February 19, 2015

जिंदगी नोटबुक नहीं है ...


15 comments:

  1. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (20.02.2015) को "धैर्य प्रशंसा" (चर्चा अंक-1895)" पर लिंक की गयी है, कृपया पधारें और अपने विचारों से अवगत करायें, चर्चा मंच पर आपका स्वागत है।

    ReplyDelete
  2. बहुत खुबसूरत! तरन्नुम में सराबोर भावपूर्ण रचना,आपकी आवाज़ में सूनने की इच्छा जगा दी है,इस कृति ने!
    जलती है मुझमें आज भी अहसासों की बाती
    जलना यूँ ही है प्यार के चूल्हे में बन के पाती!

    अहा! क्या बात है!! उम्दा रचना!!

    ReplyDelete
  3. बहुत ही सुंदर और प्रेरक रचना ... भई वाह , क्या बात है ...
    मेरे ब्लॉग पर आप सभी लोगो का हार्दिक स्वागत है.

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर ....

    ReplyDelete
  5. वाह परी जी! बहुत सुंदर!!

    ReplyDelete
  6. मन के जज्बात को शब्द दिए हैं ... बहुत सुन्दर ...

    ReplyDelete
  7. आज 25/फरवरी /2015 को आपकी पोस्ट का लिंक है http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  8. बहुत सुंदर प्रस्तुति ,,,

    ReplyDelete
  9. जलती है मुझमें आज भी अहसासों की बाती
    जलना यूँ ही है प्यार के चूल्हे में बन के पाती!
    दिल के जज्बातों को हवा देते सार्थक शब्द लिखे हैं आपने परी जी !

    ReplyDelete
  10. तू लिख के रोज़ फाड़े ज़िन्दगी नोटबुक नहीं... क्या खूब कहा है. बेहद भावपूर्ण रचना, बधाई.

    ReplyDelete
  11. वाह, बहुत खूब

    ReplyDelete

मेरे ब्लॉग पर आपके आगमन का स्वागत ... आपकी टिप्पणी मेरे लिए मार्गदर्शक व उत्साहवर्धक है आपसे अनुरोध है रचना पढ़ने के उपरान्त आप अपनी टिप्पणी दे किन्तु पूरी ईमानदारी और निष्पक्षता के साथ..आभार !!