Thursday, February 5, 2015

पाषाण होना चाहती हूँ......


19 comments:

  1. पाषाण ही हैं इधर भी और
    उधर भी बिखरे हुऐ हम सभी
    कुछ कठोर कुछ मुलायम
    कुछ सुधरे हुऐ :)

    बहुत सुंदर ।

    ReplyDelete
  2. बहुत खूब कहा! पर इन सबके बिना कविता और कवि पैदा कहाँ से हो ?

    ReplyDelete
  3. bahut badhiya, umda aur sanjeeda!!!

    ReplyDelete
  4. पाषाण ही हैं इधर भी और
    उधर भी बिखरे हुऐ हम सभी
    कुछ कठोर कुछ मुलायम
    कुछ सुधरे हुऐ

    बहुत सुंदर शब्द परी जी

    ReplyDelete
  5. जीवन के यथार्थ का प्रभावी चित्रण ....मगर अगले मोड़ पर पाषाण होने की ख्वाइश को बदल दीजियेगा ....मंगलकामनाएं

    ReplyDelete
  6. बहुत सुंदर शब्द परी जी...

    ReplyDelete
  7. fir hume ye sab padhne kaise milega, bahut sundar likha hai

    ReplyDelete
  8. आज सच में संवेदनशील इंसान पत्थर ही होना चाहता है ...
    मन के जज्बात बाखूबी लिखे हैं ...

    ReplyDelete
  9. कलम की दीवानी में रवानी रच गयी |
    पाषाण बनने की कोई कहानी कह गयी|
    आकांक्षाएं इच्छाएं अनवरत बढ़ती गयी|
    आबरू आकाश सा साहित्य में उत्तर गयी ||

    ReplyDelete
  10. सार्थक प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल सोमवार (09-02-2015) को "प्रसव वेदना-सम्भलो पुरुषों अब" {चर्चा - 1884} पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ...
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  11. पाषाण ही हैं इधर भी और
    उधर भी

    ..........बहुत सुंदर परी जी

    ReplyDelete
  12. वाह ! क्या बात है ! लेकिन हमने सुना है संवेदनशील पत्थरों के सीने में भी दिल होता है और धडकनें वहाँ भी जज्बातों की लय पर गिनी जा सकती हैं ! सुन्दर चाह और उस चाहत की अभिव्यक्ति !

    ReplyDelete
  13. बहुत ही बेहतरीन रचना परी जी......

    ReplyDelete
  14. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  15. वाह क्या बात है .........बेहतरीन पंक्तियाँ .....जात पात के हवाओं ने जिसे छुआ न हो!!!!

    ReplyDelete
  16. bahut umda prastutui. . its always the pleasure to read your works. Baba bless !!

    ReplyDelete
  17. बहुत ही बेहतरीन रचना परी जी......

    ReplyDelete

मेरे ब्लॉग पर आपके आगमन का स्वागत ... आपकी टिप्पणी मेरे लिए मार्गदर्शक व उत्साहवर्धक है आपसे अनुरोध है रचना पढ़ने के उपरान्त आप अपनी टिप्पणी दे किन्तु पूरी ईमानदारी और निष्पक्षता के साथ..आभार !!