Wednesday, August 5, 2015

मुझे ज़रा भी इल्म न था

उस लम्हें के गुज़र जाने के बाद
अतराफ़ ये सन्नाटा पसर जाने के बाद
मेरा मासूम दिल जब सितारों की शब में 
अपने गिरेबाँ की सीढ़ियाँ उतरा 
तो बुझा हुआ मुहब्बत का चेहरा देख 
उसे इस बात का बेहद अफ़सोस हुआ  
कि ज़रा सी कहा -सुनी में खफ़ा होकर  
वो तुम्हारा दिया तोहफ़ा 
जो मुझे अपनी जाँ से अज़ीज़तर था  
कितनी बेरहमी से उस रोज़ 
गुस्से की धधकती हुई 
इक पल के आतिश-दाँ में झोंक आई थी
मुझे ज़रा भी इल्म न था 
जन्मों के रिश्तें पल - भर में खाक़ नहीं होते 
एक सदी, एक उम्र , एक जिंदगी मिट जाती है 
इक निशान दिल से मिटाते-मिटाते। 
__________________ 

© परी ऍम. "श्लोक"

14 comments:

  1. बहुत सुन्दर !
    तारीफ़ के लिए शब्द कम पड. जायेंगे !!

    ReplyDelete
  2. एक बेह्तरीएन अहसास !! दाद !!

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर !

    ReplyDelete
  4. अतीत से उठ आते कुछ पल .... बहुत मार्मिक रचना हुई है ...
    एक सदी, एक उम्र , एक जिंदगी मिट जाती है
    इक निशान दिल से मिटाते-मिटाते।

    ReplyDelete
  5. बढ़िया पंक्तियाँ
    कृपया यहाँ भी पधारिये
    http://ghoomofiro.blogspot.in/

    ReplyDelete
  6. कितनी बेरहमी से उस रोज़
    गुस्से की धधकती हुई
    इक पल के आतिश-दाँ में झोंक आई थी
    मुझे ज़रा भी इल्म न था
    जन्मों के रिश्तें पल - भर में खाक़ नहीं होते
    बहुत ही सुन्दर और सार्थक पंक्तियाँ परी जी !! ऐसे विषय पर आपकी लेखनी बहुत दमदार शब्द लिखती है !!

    ReplyDelete
  7. आप की पक्तियों के धन्यवाद जरा यहाँ भी -
    तालीम किसको कौन जानता ,
    जो दिया उसने उसे ही मानता |
    https://plus.google.com/collection/46asY
    https://plus.google.com/collection/cxNhW
    https://plus.google.com/collection/ElSQe
    https://plus.google.com/collection/si1Lg

    ReplyDelete
  8. आप की पक्तियों के धन्यवाद जरा यहाँ भी -
    तालीम किसको कौन जानता ,
    जो दिया उसने उसे ही मानता |
    https://plus.google.com/collection/46asY
    https://plus.google.com/collection/cxNhW
    https://plus.google.com/collection/ElSQe
    https://plus.google.com/collection/si1Lg

    ReplyDelete
  9. आप की पक्तियों के धन्यवाद जरा यहाँ भी -
    तालीम किसको कौन जानता ,
    जो दिया उसने उसे ही मानता |

    https://plus.google.com/communities/112583272595655762246
    यहाँ क्लिक करके संग्रह क्लिक कर अपना आशीर्वाद प्रदान करें धन्यवाद |

    ReplyDelete
  10. बहुत सुंदर प्रस्तुति परि जी ...

    ReplyDelete
  11. बहुत सुंदर...

    ReplyDelete
  12. बहुत सुंदर...

    ReplyDelete
  13. बहुत सुंदर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  14. क्रोध सच में विवेक को खा जाता है. और असल ज़िंदगी में undo बटन तो है नहीं, कि दबाया और करनी को फेर दिया...
    इस रचना की भावना में सच्चाई है. निश्छल अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete

मेरे ब्लॉग पर आपके आगमन का स्वागत ... आपकी टिप्पणी मेरे लिए मार्गदर्शक व उत्साहवर्धक है आपसे अनुरोध है रचना पढ़ने के उपरान्त आप अपनी टिप्पणी दे किन्तु पूरी ईमानदारी और निष्पक्षता के साथ..आभार !!