Monday, November 3, 2014

आज मुझे लगा.....

आज कई बार मैंने लिखा
और कई बार उसे मिटाया ..
आज इतना कुछ था कहने को
कि कागज़ कोरा ही रह गया..

आज मेरी तन्हाईयाँ
मुझपर टूटकर बरसी..
आज मैंने कुछ पढ़ा
और मेरी संवेदनाएं उबल गयी..

आज मुझे ईर्ष्या हुई
किसी से इतनी की
मैं कह नहीं सकती
आज मुझे लगा
कि अब तलक 
मुझे बस फैसले सुनाये गए है
और मैंने उसे अपनाया है
हालातो के फटे कपड़ो को
समझौते के सुई धागे से सिल
उसे पहन लिया
और एक....
शिकायत भी नहीं की

क्यूँ ?
क्यूंकि मेरी कोई मर्जी नहीं थी
मैंने सबकी रज़ा को अपना समझ
सज़ा काटने का बंदोबस्त कर लिया 
हाँ ! पर जो मर्जी थी
मैं उसे जान नहीं सकी
एक कोने में दबी ये वो चाहत थी
जिसके हिस्से में महज़ रास्ते थे
मगर नसीब में मंज़िले नहीं
 
आज मुझे लगा
मैंने खुद को खुद से
बहुत दिनों तक दूर रखा
इतना दूर कि
आईने मुझे नहीं पहचानते
और मैं अपनी ही नज़रो में
अपनी पहचान की मोहताज़ हूँ
 
आज मुझे लगा
जो मोहोब्बत मैंने दूसरो से कर
तकलीफो का गढ़ बना लिया खुदको
अपनी पेशानी पर धोखे की
अनगिनत लकीर खींच ली
अपना दामन अश्को का दरिया बना दिया
 
काश ! वो मोहोब्बत एक बार भी मैंने
अपने आप से कि होती
तो शायद !
आज जिंदगी की तस्वीर
इसकदर बेनूर और बदरंग न होती !!

_______________________
© परी ऍम. 'श्लोक'

19 comments:

  1. बहुत सुन्दर और भावप्रणव रचना।

    ReplyDelete
  2. भावों का बहुत सुंदर संयोजन.

    ReplyDelete
  3. मोहब्बत के होते हैं रंग हजार ,नहीं कुछ सिवा आहत के ,गुजरे कई इस हालात से मगर पहचान और परख में नादान ठहरे ,बहुत अच्छी व्यंजना |

    ReplyDelete
  4. एक कोने में दबी ये वो चाहत थी
    जिसके हिस्से में महज़ रास्ते थे
    मगर नसीब में मंज़िले नहीं

    आप दिल की गहराईओं को कलम से निखार देती हैं ....

    ReplyDelete
  5. "...अब तलक
    मुझे बस फैसले सुनाये गए है
    और मैंने उसे अपनाया है
    हालातो के फटे कपड़ो को
    समझौते के सुई धागे से सिल
    उसे पहन लिया...."

    I can relate to each and every word here..and how ! beautifully written Pari..I absolutely loved it ! :)

    ReplyDelete
  6. आपकी लिखी रचना बुधवार 05 नवम्बर 2014 को लिंक की जाएगी........... http://nayi-purani-halchal.blogspot.in आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  7. हालातो के फटे कपड़े और समझोतो के धागे ।।।।।
    हर शब्द रचना की परिपक्वता का परिचय देता हुआ ।
    बहुत सुन्दर।

    ReplyDelete
  8. दिल में आता गया.... और लिखती गयी..... बहुत भावुक सी एक बच्ची :)

    ReplyDelete
  9. अति सुन्दर। शब्द और बिम्ब दोनों सुन्दर। हाँ मेरी सुरक्षा मेरा आनंद मेरी ख़ुशी मेरे अंदर ही है संसार की किसी व्यक्ति या वास्तु में नहीं है। यह सब मात्र समय सापेक्ष सादृश्य है ,प्रतीति है जबकि मैं (सेल्फ ,आत्मन )सनातन हूँ।

    मैं सनातन चेतना ,शाशवत अस्तित्व हूँ। बाहर भी मैं हूँ अंदर भी मैं हूँ सब कुछ मेरी चेतना का ही विस्तार है। व्यक्ति के स्तर पर मैं आत्मा हूँ समष्टि के स्तर पर ब्रह्मन (परमात्मा )हूँ।

    ReplyDelete
  10. बेह्तरीन :) http://thesrjblogs.blogspot.in/?m=1
    blog पर आयें :)

    ReplyDelete
  11. आज मुझे लगा
    जो मोहोब्बत मैंने दूसरो से कर
    तकलीफो का गढ़ बना लिया खुदको
    अपनी पेशानी पर धोखे की
    अनगिनत लकीर खींच ली
    अपना दामन अश्को का दरिया बना दिया
    दिल की गहराइयों तक पहुँचते शब्द

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्दर
    आयें- http://www.jeevanmag.com

    ReplyDelete
  13. बहुत खूबसूरत अहसास जो दिल की ज़मीं और पलकों की कोरों को नम कर गये ! बहुत सुन्दर !

    ReplyDelete

मेरे ब्लॉग पर आपके आगमन का स्वागत ... आपकी टिप्पणी मेरे लिए मार्गदर्शक व उत्साहवर्धक है आपसे अनुरोध है रचना पढ़ने के उपरान्त आप अपनी टिप्पणी दे किन्तु पूरी ईमानदारी और निष्पक्षता के साथ..आभार !!