Wednesday, December 10, 2014

अगला हादसा कब होगा ??


खुले आम फिरने लगें हैं
राक्षस...
उनके सिर पे सींग नहीं होती
उनकी आवाज़ रावणी नहीं होती
महिषासुर की तरह
उनका घमंड नहीं झलकता
होते हैं ये चलते-फिरते
इंसानी भेष धरे आज़ाद हैवान
जो अपनी असलियत छिपाए फिरते हैं
मीठी-मीठी बातो के चिलमन में
वो दिखते और चमकते हैं
सोने की तरह...
किन्तु
कोयले की खान होते हैं
अंदर ही अंदर इनमें
उबलता हैं दरिंदगी का दरिया
छाया होता हैं दिमाग में
कुख्यात सोच का घना कोहरा
फलता-फूलता रहता है
हैवानियत का जंगल
क्योंकि देते हैं हम उन्हें
अपनी सहनशीलता की ज़मीन
लापरवाही की धूप
अपनी बेबसी की बारिश
गैरजिम्मेदारी का मौसम
डर की जलवायु
और तैयार हो जाती है
दरिंदगी की
ऐसी कंटीली..जहरीली फसल
जो दे जाती हैं
हमारी बहन-बेटियो को नासूर जख्म
कानून काली पट्टी बांधे
फिर इन्साफ करने चलता है
कहता है नहीं है रस्सी में बल
जेल में जल्लाद नहीं हैं
जो इसने किया फाँसी दे सकें
ये ऐसा अपराध नहीं हैं
और फिर सर उठा लेता है साहस
अपराधी के राहत की साँसों के भ्रूण से
अपराधियो की कतार तैयार हो जाती हैं
और हम रह जाते हैं
मोमबत्ती चौराहे पर जलाते हुए
टेलीविजन-अखबार-संसद में
बहस करते...और चीखते..चिल्लाते हुए
इंतज़ार करते हुए
कि अगला हादसा कब होगा ??

 ____________________
© परी ऍम. 'श्लोक'

13 comments:

  1. Hadse to hote rahege. Jab tak log shikshit nahi hoge jab tak hum mahangai kee tarah badate rahege. Thok ke bhaav log hai aur thok ke bhaav paida kar rahe hai. Unme se aage chal kuch danav to banege hi.

    ReplyDelete
  2. बहुत बढ़िया परी जी


    सादर

    ReplyDelete
  3. These shameful acts just don't seem to stop..its a sorry state for our society to be in..well written Pari.

    ReplyDelete
  4. यथार्थ दर्शाती दिल को छू लेनेवाली रचना...

    ReplyDelete
  5. बहुत सुंदर एवं भावात्मक रचना.इंसानों के वेश में हैवानों को पहचानने की जरूरत है.

    ReplyDelete
  6. आज के कटु यथार्थ को दर्शाती बहुत गहन अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  7. महिलाओं के प्रति बढ़ते अपराधों का उचित चित्रण के लिए आपको धन्यवाद! आदरणीया परी जी!
    धरती की गोद

    ReplyDelete
  8. कटु यथार्थ को उकेरती अत्यंत मार्मिक रचना ! विडम्बना यही है कि कुछ भी नहीं बदलता और एक गुनाह के बाद ढेर सारी लंबी चौड़ी बहसों और मोमबत्तियां जलाने की कवायद कर लेने के साथ ही हम इस खुशफहमी में जीने लगते हैं कि अब सब कुछ ठीक हो गया है ! लेकिन कुछ भी नहीं बदलता है ! गुनाहगार और उनकी गंदी मानसिकता उसी तरह फलती फूलती रहती है !

    ReplyDelete
  9. वाह - वाह..... बहुत खूब !!!!

    ReplyDelete
  10. और हम रह जाते हैं
    मोमबत्ती चौराहे पर जलाते हुए
    टेलीविजन-अखबार-संसद में
    बहस करते...और चीखते..चिल्लाते हुए
    इंतज़ार करते हुए
    कि अगला हादसा कब होगा ??
    आज के कटु यथार्थ को दर्शाती बहुत गहन अभिव्यक्ति..

    ReplyDelete
  11. कल 08 /मार्च/2015 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद !

    ReplyDelete
  12. क्योंकि देते हैं हम उन्हें
    अपनी सहनशीलता की ज़मीन
    लापरवाही की धूप
    अपनी बेबसी की बारिश
    गैरजिम्मेदारी का मौसम
    डर की जलवायु
    और तैयार हो जाती है
    दरिंदगी की
    ऐसी कंटीली..जहरीली फसल
    जो दे जाती हैं
    हमारी बहन-बेटियो को नासूर जख्म

    अद्भुत अहसास...सुन्दर प्रस्तुति बहुत ही अच्छा लिखा आपने .बहुत ही सुन्दर रचना.बहुत बधाई आपको .

    ReplyDelete

मेरे ब्लॉग पर आपके आगमन का स्वागत ... आपकी टिप्पणी मेरे लिए मार्गदर्शक व उत्साहवर्धक है आपसे अनुरोध है रचना पढ़ने के उपरान्त आप अपनी टिप्पणी दे किन्तु पूरी ईमानदारी और निष्पक्षता के साथ..आभार !!