Tuesday, December 16, 2014

अल्ला तुम्हारा नहीं है आतंकवादियों....

कैसे व्यक्त करूँ
वो पीड़ा जो कल
तमाम माओं ने महसूस की
और जो कभी न मिटने वाला
हमेशा चुभने वाला जख्म है...
नहीं शब्द नहीं
दर्द है बेहद दर्द
मासूम बच्चो की चीखें
मुझे सुनाई देती हैं
मैं विवश उन्हें बचा नहीं पाती
फट जाती है छाती
अपनों को खोकर
बिलखते हुए लोगो को देख
खून की होली
खेलतें है
बच्चो का शिकार करते हैं
अपनी कायरता का
सबसे बड़ा प्रमाण देकर
अपने आपको बहादुर
समझते है
मस्जिद...मंदिर..
शिक्षा के मंदिर पर
घावा बोलतें है
नहीं हैं ये किसी मज़हब के
किसी देश के हितैषी
खून पीना शौक है इनका
लाश देखकर सकून
महसूस करते हैं


हथियारों के दम पे
कूदने वालो..
खुदा के बन्दों को
मौत के घाट उतारने वालो
बेहद जल्दी तुम्हे तुम्हारा
मुआवज़ा मिलेगा
बेहद जल्द तुम्हारे लिए
घृणा का सैलाब उठेगा
और तुम्हे तबाह कर देगा
नहीं बचोगे तुम..
इससे भयानक मौत मरोगे तुम


तब नहीं मनाएगा कोई मातम
होगा जश्न सकून का अमन का


हैवानो के साथ दरिंदो के साथ
अल्ला कभी नहीं होता..
जिस अल्ला का तुम
तुम्हारे साथ होने का दम भरते हो
उसी अल्ला के बन्दों की
निर्मम हत्या करते हो
अल्ला तुम्हारे साथ नहीं है आतंकवादियों....
अल्ला तुम्हारा नहीं है !!


© परी ऍम. 'श्लोक'


(पेशावर पर बच्चो पर हुए हमले से आहत हूँ ..हमले में हुए शहीदो को श्रद्धांजलि...!!)

14 comments:

  1. इस पाशविक बर्बरता पर क्या कहा जाय.

    ReplyDelete
  2. राक्षस जो इन्साँ का लबादा लिए घूम रहे है।
    फिर भी प्रकृति के भी अपने नियम कायदे है, कोई नहीं बच सकता ।

    ReplyDelete
  3. शर्मिंदा है इंसानियत आज ......और होती रही है

    ReplyDelete
  4. अब तो भगवान ही स्वयं अवतार लेवें तभी सृष्टि का कल्याण सम्भव है? बहुत ही मार्मिक वर्णन​।

    ReplyDelete
  5. नहीं हैं ये किसी मज़हब के
    किसी देश के हितैषी
    sahi kaha hai!

    ReplyDelete
  6. कल 18/दिसंबर/2014 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद !

    ReplyDelete
  7. शर्मिंदा है पूरा विश्व ,,,, हर देश के लोग दुखी हैं पर इन हैवानो को ...कुछ नहीं समझ में आता है न आएगा ....जिस अल्लाह का तुम
    तुम्हारे साथ होने का दम भरते हो
    उसी अल्लाह के बन्दों की
    निर्मम हत्या करते हो ......सही कथ्य ....

    ReplyDelete
  8. यदि अब भी भगवन धरती पे न उतरे तो क्या ये समझे की भगवान है ही नहीं
    मैं बचपन से ये ही मानता जानता और समझता आया हूँ ।
    भगवान है ही नहीं ।।।।। ऐसी हर त्रासदी घटना हादसा मेरी बात की पुख्ता बनाता जाता है

    काश भगवन होते ।

    ReplyDelete
  9. सही कहा.... ऐसे लोग किसी धर्म या जाति के नहीं होते... बल्कि किसी के भी नहीं होते.... इन्हें प्यारा होता है... अपना जुनून - अपना पागलपन.... बस्स्स्स्स !!!!

    ReplyDelete
  10. जो खुद अपने को खुद समझ बैठते हैं उनका अल्लाह कभी न हुआ है न होगा ...
    सामयिक चिंतन प्रस्तुति ...

    ReplyDelete
  11. आतंकवाद का कोई मजहब नहीं होता और न ही कोई धर्म। यह एक विकृति है जिसका खात्मा जरूरी है।

    ReplyDelete
  12. मजहब के नाम पर मासूमों की बलि दे डाली… संवेदनशील। ।

    ReplyDelete
  13. खुदा इन आतंकवादियों का है या नहीं कहा नहीं जा सकता लेकिन वह खामोश रह कर इनके हौसले ज़रूर बुलंद कर रहा है ! वरना कैसे कर पाते ये चंद आतंकवादी इतने बेगुनाह बच्चों की ऐसी नृशंस ह्त्या ! कहाँ है भगवान जो अपने बेगुनाह बन्दों को इस तरह जिबह होता हुआ देख रहा है चुपचाप !

    ReplyDelete
  14. हैवानो के साथ दरिंदो के साथ
    अल्ला कभी नहीं होता..
    जिस अल्ला का तुम
    तुम्हारे साथ होने का दम भरते हो
    उसी अल्ला के बन्दों की
    निर्मम हत्या करते हो
    अल्ला तुम्हारे साथ नहीं है आतंकवादियों....
    अल्ला तुम्हारा नहीं है !!
    मजहब के नाम पर मासूमों की बलि दे डाली… संवेदनशील। ।

    ReplyDelete

मेरे ब्लॉग पर आपके आगमन का स्वागत ... आपकी टिप्पणी मेरे लिए मार्गदर्शक व उत्साहवर्धक है आपसे अनुरोध है रचना पढ़ने के उपरान्त आप अपनी टिप्पणी दे किन्तु पूरी ईमानदारी और निष्पक्षता के साथ..आभार !!