Friday, December 12, 2014

ढीली व्यवस्था


15 comments:

  1. बहुत सही लिखा है आपने

    ReplyDelete
  2. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल शनिवार (13-12-2014) को "धर्म के रक्षको! मानवता के रक्षक बनो" (चर्चा-1826) पर भी होगी।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  3. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल शनिवार (13-12-2014) को "धर्म के रक्षको! मानवता के रक्षक बनो" (चर्चा-1826) पर भी होगी।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  4. और करें भी क्या मंद मति के मारे !

    ReplyDelete
  5. कल 14/दिसंबर/2014 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद !

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर प्रस्तुति.....

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  8. kam shabdon mein badi baad, achhi prastuti

    shubhkamnayen

    ReplyDelete
  9. इस ढीली व्यवस्था ने ही तो सारा बड़ा गर्क कर रखा है !

    ReplyDelete

मेरे ब्लॉग पर आपके आगमन का स्वागत ... आपकी टिप्पणी मेरे लिए मार्गदर्शक व उत्साहवर्धक है आपसे अनुरोध है रचना पढ़ने के उपरान्त आप अपनी टिप्पणी दे किन्तु पूरी ईमानदारी और निष्पक्षता के साथ..आभार !!