Thursday, September 11, 2014

"ये मेरी आखिरी इल्तेजा है तुमसे "

तुम जा रहे हो तो जाओ
छोड़कर ये दर्द सारा
मेरी तन्हाइयो के पहरेदारी में
मैं नहीं रोकूंगी तुम्हे

मगर
ये मेरी आखिरी इल्तेजा है तुमसे

फिर न लौटना कभी
मरे हुए मेरे ख्वाबो को
छूकर जगाने के लिए
फिर से मेरी रूह को
किसी एहसाह से भिगाने के लिए

हाँ !
मैं अपने दिल के टुकड़ो को
समझा दूंगी 
कि तुम तसव्वुर थे मेरे...
ख्याल थे मेरे......
हकीकत कि ज़मीन से
उखड़े हुए हैं पाँव जिसके
जिसके साये में बेवजह
महफूज़ समझ लिया खुद को मैंने

और ...........

इस झूठ को दोहराती रहूंगी
जबतक धुंधला के गायब न हो जाए
तुझे पाने...खोने का एहसास
और
तेरे कहीं होने का यकीन तक !!!


________परी ऍम "श्लोक"

 

5 comments:

  1. Bahut khoob ... dil se nikle gahre ehsaas ...

    ReplyDelete
  2. बहुत ही सुन्दर !

    ReplyDelete
  3. मर्मस्पर्शी प्रस्तुति !


    सादर

    ReplyDelete
  4. इस झूठ को दोहराती रहूंगी
    जबतक धुंधला के गायब न हो जाए
    तुझे पाने...खोने का एहसास
    और
    तेरे कहीं होने का यकीन तक !!!
    मन को छूते शब्द !

    ReplyDelete

मेरे ब्लॉग पर आपके आगमन का स्वागत ... आपकी टिप्पणी मेरे लिए मार्गदर्शक व उत्साहवर्धक है आपसे अनुरोध है रचना पढ़ने के उपरान्त आप अपनी टिप्पणी दे किन्तु पूरी ईमानदारी और निष्पक्षता के साथ..आभार !!