Wednesday, September 10, 2014

"आइना हूँ टूटा सा"

जैसे मैं कोई
आइना हूँ टूटा सा
चुनकर जोड़ती हूँ
मगर मिलता नहीं मुझे
मुकम्मल वज़ूद अपना
शायद
कोई अहम हिस्सा
बहा ले गया है बयार

और
अब ये सूरत है कि ...

कुछ दारारो से पड़े हुए दाग हैं
कुछ खरोच हैं वक़्त के नाखूनों के 
कुछ हिस्सा लापता है

किसी पत्थर का ये एहसान है कि ....

ये आइना तो बस अब
टुकड़ो में जिन्दा है !!

________परी ऍम 'श्लोक'

6 comments:

  1. सुन्दर एहसास

    ये आइना तो बस अब
    टुकड़ो में जिन्दा है !!

    ReplyDelete
  2. बहुत ही बढ़िया


    सादर

    ReplyDelete

  3. कल 12/सितंबर/2014 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद !

    ReplyDelete
  4. उम्दा...बहुत ही बढ़िया

    ReplyDelete

मेरे ब्लॉग पर आपके आगमन का स्वागत ... आपकी टिप्पणी मेरे लिए मार्गदर्शक व उत्साहवर्धक है आपसे अनुरोध है रचना पढ़ने के उपरान्त आप अपनी टिप्पणी दे किन्तु पूरी ईमानदारी और निष्पक्षता के साथ..आभार !!