Sunday, March 9, 2014

एहसास कि लहरो पर मैं



इन एहसास  कि
लहरो पर
मैं सवार हूँ
या
ये लहरे मुझपर
 

बड़ी कशिश है मौसम में
खुश मिज़ाज़ ये पुरवाई
आफताब कि रोशनी है ज़ोरो पर
बरखा में बरसात कि बूंदे
भिगोती जा रही है

कुछ मुझे , कुछ तुम्हे….

 
मेरे मन में रिधम
और
वादियो में गूंजता है
एक लय में
संगीत सा तुम्हारा नाम
 
सहमा दिल है बेताब धड़कन
मैं दौड़ कर पकड़ती हूँ
बदहवासी में ख्याली परछाई
और वो छिप जाती है
अंधेरो कि सिल्की आँचल में

नींदे बड़ी मशगूल है तुममे
और सकूं नींदो से खफा
तसव्वुर अपनी नयी दुनियाँ  में
जिसका हर चेहरा हर रूपतुम हो

कितना अज़ीब है फलसफा
जज़्बातों का 
ये जानते हुए भी कि तुम
इक खूबसूरत वहम हो मेरा
जिसका वास्तविकता से कोई नाता नही 
तुम सिर्फ मेरे अंदर हो

लेकिन
फिर भी
इस वहम में जीने का मज़ा
जिंदगी के मायूस लम्हों को
बेहद हसीं बना देता है !




रचनाकार : परी ऍम श्लोक

24 comments:

  1. कितना अज़ीब है फलसफा
    जस्बातों का
    ये जानते हुए भी कि तुम
    इक खूबसूरत वहम हो मेरा
    जिसका वास्तविकता से कोई नाता नही
    तुम सिर्फ मेरे अंदर हो
    प्यार और प्रेम की चासनी में डूबे हुए सार्थक और सुन्दर शब्द ! परी जी , आप शायद जल्दी में रहती हैं , पोस्ट करने से पहले विनम्रता पूर्वक कहना चाहूंगा कि एक बार फिर से पोस्ट पर नजर मार लिया करें ! कुछ टाइपिंग की गलतियां हो जाती हैं आपसे , मतलब समझ आता है लेकिन धीरे धीरे फिर ये आपकी आदत बन जायेगी ! आशा है अन्यथा नहीं लेंगी

    ReplyDelete
    Replies
    1. असली पाठक हैं जी आप पढ़ेंगे तभी गलती बता भी पायेंगे ।

      Delete
  2. कल्पनायें जीवन के बेहद जरूरी है, जीवन में नया रंग भर देती है। सपने जीवन में न हो तो उसके लिए एक शेर याद आता है किसी बड़े आदमी ने लिखा है -
    "ना कोई ख्वाब,ना कोई खलिश, न कोई खुमार
    ये आदमी तो बड़ा अधूरा सा लगता है "

    ReplyDelete
  3. ज़ज्बात और अहसासों की संजीदगी ने इस सफर को सुहाना बना दिया है , कहाँ कौन है किसके अल्फाजों में दरिया सी बहती शब्दों ने थोड़ी ठहरकर कहीं, अफ़साना बना दिया है। बहुत खूबसूरत , शुभकामनायें आपको !

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर रचना

    वहम में भी तेरा ख्याल दिल को राहत देता है
    ऐ काश तो वहम न होता मेरे इस जेहन का
    दुनियाँ रंगीन हो जाती गर हाथ में मेरे
    तेरा हाथ होता............Aashu....

    ReplyDelete
  5. Utkrusht rachna...chanchal mann ki kalpanao ko bahut hi khoobsurat dhang se shabdo mein piroya hai...

    ReplyDelete
  6. Yogi ji aap meri rachna itane dhyaan se padhte hain iske liye aapka dher sara aabhaar .... Hamne apni trutiyo ko theek kar liye hai aap ke aadeshanusaar ... Aap yun aate rahein utsaah badhaate rahein ... Accha lagta hai :)

    ReplyDelete
  7. सुन्दर रचना .. सुन्दर ख्याल.
    योगी जी कि बातों से मैं भी सहमत हूँ ..... :D थोड़ा समय दीजिये रचनाओं को ..

    ReplyDelete
  8. Aap sabhi ka haardik aabhaar mujhe yun utsaahit karne ke liye... Aap sabhi aatein rahein yun hi accha lagta hai :)

    ReplyDelete
  9. इस वहम में जीने का मज़ा
    जिंदगी के मायूस लम्हों को
    बेहद हसीं बना देता है !
    सच है कभी कभी वहम हक़ीक़त से ज़्यादा खूबसूरत होता है
    बहुत ही बढ़िया

    ReplyDelete
  10. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  11. बहुत ही खूबसूरत और खुशनुमां सी कविता ! इन भ्रमों में ही कहीं न कहीं जीने की वजह भी मिल ही जाती है !

    ReplyDelete
  12. सराहनीय सृजन

    लू के गर्म झकोरों से जब
    पछुवा तन को झुलसा जाती
    लम्हों की स्वप्निल घाटी में
    है याद किसी की आ जाती

    ReplyDelete
  13. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
    Replies
    1. Sorry I had to delete my comments for wrong spellings(नहीं तो मुझे भी....) Why we don't have a spell checker for Hindi?..Any suggestions?.

      Delete
  14. (एक बार फिर कोशिश करता हूँ ) ये एहसास जीवन हसीन बनाते हैं ....और एक दिन सपने सच भी हो जाते हैं ...सुंदर रचना

    ReplyDelete
  15. मित्र !आप को धन तेरस और दीवाली के अन्य पञ्च-पर्व की वधाई ! सुन्दर रचना !! भाव प्रधान !!

    ReplyDelete
  16. वाह!बहुत ख़ूब लिखा ...

    ReplyDelete
  17. बहुत खूब परी जी


    सादर

    ReplyDelete
  18. ख्वाबों की मौज पर..... अल्फाज का तैरना.... बहुत खूबसूरत.... यूं ही लिखती रहिये... दिखती रहिये..... शुभ धनतेरस एवं शुभ दीपावली... :)

    ReplyDelete

मेरे ब्लॉग पर आपके आगमन का स्वागत ... आपकी टिप्पणी मेरे लिए मार्गदर्शक व उत्साहवर्धक है आपसे अनुरोध है रचना पढ़ने के उपरान्त आप अपनी टिप्पणी दे किन्तु पूरी ईमानदारी और निष्पक्षता के साथ..आभार !!