Saturday, July 19, 2014

संवेदनहीनता


चीख सुनके
बहरे हो जाना
मौन होकर
दार्शनिक बने रहना
गूंगे हो जाना
जुबान पर ताला लटका कर
मानवता तो जैसे
कोढ़िया गयी है
इंसानो के बीच में
कोई नंगा करता है
कोई उसपे चर्चा करता है
लेकिन तन ढांपने का साहस
इन कायरो में नहीं
जंगा गया है कर्तव्य
घोट दिया है नेकियों का गला
अपनी मतलबपरस्ती में
भूल गए
जिस अवस्था में मैं हूँ
वो कभी भी
किसी भी घर की स्त्रियों को
अपने चुंगल में जकड़ सकता है
बनो कायर पहनो चूड़ी
बैठो छिप कर
जो लोग तुम्हारी
आवाज़ पे भाग खड़े होते
अपने डर से 
बढ़ाओ उनका हौसला
हीन कर्मो कि चाक पर
दीन समय के रूप को आकार दो
आने वाली नारी पीढ़ी को दो
गंदे मानसिकता का तौफा 
अखबारों में पढ़ो
टीवी पे देखो मेरी दुर्गति
करो मोमबत्तियों का मार्च
चंद हमदर्द लोगो कि अगुवाई में 
दया दिखाओ अपनी
लेकिन तब क्या फायदा आखिर ?
जब
तुम्हारी संवेदनहीनता
मुझे मृत्यु के मुख में डाल दे
मान को तितिर-बितिर करके...!!
 
------------------परी ऍम 'श्लोक'

10 comments:

  1. कटु सत्य .........
    एक शब्द पढ़ी मैं
    'कोढ़िया'
    और यह शब्द छत्तीसगढ़ में प्रचलित है
    इसका अर्थ है आलसी या अलाल
    इस कविता में इसे मैं जहां तक समझती हूँ
    निर्विकार के अर्थ में उपयोग ङुआ है
    सादर
    मैं उपलब्ध रहती हूँ यहाँ

    ReplyDelete
    Replies
    1. Kodhiya....ka matlab carm rog se hai iss rog k baad shareer kA hissa kat k girane lagta hai i

      Delete
    2. कोढ़ रोग से बना शब्द है.

      Delete
  2. आपका शुक्रिया

    कृपया अपने ब्लॉग को ब्लॉगसेतु http://www.blogsetu.com/ से जोड़ें ताकि आपकी रचनात्मकता से अधिक से अधिक लोग वाकिफ हो सकें .... !!!

    ReplyDelete
  3. कटु सत्य को बयां करती रचना

    ReplyDelete
  4. सुंदर अभिव्यक्ति शलोक जी.......

    ReplyDelete
  5. एक सम्पूर्ण पोस्ट और रचना!
    यही विशे्षता तो आपकी अलग से पहचान बनाती है!

    ReplyDelete
  6. समाज हद से ज्यादा संवेदनहीन हो चुका है।
    जिस नारी को नव दुर्गों मे पूजते हैं , उसे ही अपनी करनी से समय समय पर अपमानित करते रहते हैं।

    बहुत अच्छा लिखा आपने।

    सादर

    ReplyDelete
  7. दया दिखाओ अपनी
    लेकिन तब क्या फायदा आखिर ?
    जब
    तुम्हारी संवेदनहीनता
    मुझे मृत्यु के मुख में डाल दे
    मान को तितिर-बितिर करके...!!...kroor, nirmam sach. maarmik abhivyakti !
    ....

    ReplyDelete

मेरे ब्लॉग पर आपके आगमन का स्वागत ... आपकी टिप्पणी मेरे लिए मार्गदर्शक व उत्साहवर्धक है आपसे अनुरोध है रचना पढ़ने के उपरान्त आप अपनी टिप्पणी दे किन्तु पूरी ईमानदारी और निष्पक्षता के साथ..आभार !!