Friday, July 4, 2014

"औरत अस्तित्व का सम्मान करती हूँ"

अपनी इस काया पे गुमान करती हूँ..
मैं औरत हूँ..
अपने अस्तित्व का सम्मान करती हूँ..

जिन पुरुषो ने हमको रौंदा ...
हमने उनको चाहा और पाला पोसा.. 
जिसने सपनो को बरसो गोदा..
दिया हमने उन्हें परमेश्वर का ओंदा..
स्तन का दूध पी जो बड़े हुए
आज वही सीने पे नज़र गाड़े हैं खड़े हुए
जो हमको मलिन बनांते रहे
हम उनकी खैर मनाते रहे
मैं अपनी सहनशक्ति को सलाम करती हूँ..

मैं औरत हूँ..
अपने अस्तित्व का सम्मान करती हूँ
इस देह से नए जीवन का निर्माण करती हूँ
मैं औरत हूँ !!!


----------परी ऍम श्लोक

7 comments:

  1. behatareen , zabajast , mind blowing composition !

    ReplyDelete
  2. ऐसी हर औरत को सलाम जो खुद को इस नजरिये से देखने का जज्बा रखती हो

    ReplyDelete
  3. सही कहा।नारी सिर्फ एक देह मात्र ही नहीं होती बल्कि आम इन्सानों की तरह उसके भीतर एक मन भी होता है।

    अच्छा लगा आपका ब्लॉग।


    सादर

    ReplyDelete
  4. एक निवेदन
    कृपया निम्नानुसार कमेंट बॉक्स मे से वर्ड वैरिफिकेशन को हटा लें।
    इससे आपके पाठकों को कमेन्ट देते समय असुविधा नहीं होगी।
    Login-Dashboard-settings-posts and comments-show word verification (NO)

    अधिक जानकारी के लिए कृपया निम्न वीडियो देखें-
    http://www.youtube.com/watch?v=VPb9XTuompc

    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  5. उम्दा रचना
    जब हम अपने औरत होने का सम्मान करेंगे तभी लोग हमारा सम्मान करना सीखेंगे

    ReplyDelete
  6. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति ।

    ReplyDelete

मेरे ब्लॉग पर आपके आगमन का स्वागत ... आपकी टिप्पणी मेरे लिए मार्गदर्शक व उत्साहवर्धक है आपसे अनुरोध है रचना पढ़ने के उपरान्त आप अपनी टिप्पणी दे किन्तु पूरी ईमानदारी और निष्पक्षता के साथ..आभार !!