Tuesday, July 8, 2014

"बेउम्मीदी को कहीं गुमराह कर देते हो तुम"

 
बेउम्मीदी को कहीं गुमराह कर देते हो तुम..
दुःख मेरे हिस्से का अधमरा कर देते हो तुम..
 
कभी कभी जला के ख़ाक कर देते हो मुझे..
तो कभी कभी नया-नया सा कर देते हो तुम..
 
नजाने क्या है मगर कोई मीठा सा अहसास है..
मुझे छूकर मुझमें जिसे रवा कर देते हो तुम..
 
जहाँ भी देखूं तेरी ही झलक मिलती है मुझे..
हर ज़र्रे को अपना आइना कर देते हो तुम..
 
मुझे ठेस लगने से पहले ही मेरे जख्मो की..
हर दफा आकर मेरी दवा कर देते हो तुम..
 
मेरी ओर आने वाली तमाम मुश्किलो को..
मेरी चौखट से ही रफा-दफा कर देते हो तुम..
 
मतलब परस्त दुनिया में जब कहते हो कि तुम मेरे हो..
मेरी खुशियाँ कई गुना कर देते हो तुम ..
 
कदम-कदम पे अपनी बेपनाह वफाओ से..
रिश्तो के असर को और गहरा कर देते हो तुम..
 
अपनी नज़र से मुझको नूर बक्शते हो...
मेरे रंग रूप को जैसे कि अप्सरा कर देते हो तुम..
 
मेरे हर वक़्त को अपना हिस्सा देकर..
जिंदगी का हर लम्हा बेहद महंगा कर देते हो तुम !!
 
-----------------------परी ऍम श्लोक

13 comments:

  1. Aabhaar aapka Subedaar ji...

    ReplyDelete
  2. बहुत खूबसूरत ग़ज़ल। प्यार के भावो से बिगते शब्द
    । क्या बात है।

    ReplyDelete
  3. सुंदर रचना, ऐसा हमसफ़र सभी को मिले.

    ReplyDelete
  4. वह क्या बात ... लाजवाब ग़ज़ल ...

    ReplyDelete
  5. शब्दों की अनवरत खुबसूरत अभिवयक्ति...

    ReplyDelete
  6. शब्दों की अनवरत खुबसूरत अभिवयक्ति...

    ReplyDelete
  7. ​बहुत ही सुन्दर लाजवाब

    ReplyDelete

मेरे ब्लॉग पर आपके आगमन का स्वागत ... आपकी टिप्पणी मेरे लिए मार्गदर्शक व उत्साहवर्धक है आपसे अनुरोध है रचना पढ़ने के उपरान्त आप अपनी टिप्पणी दे किन्तु पूरी ईमानदारी और निष्पक्षता के साथ..आभार !!