Saturday, August 9, 2014

समझौता सदैव स्त्री ही करती है !

पुरुष हमेशा
देह चाहता है....

स्त्री प्रेम

और फिर

समर्पण
हो या
समझौता

सदैव
स्त्री ही करती है !



____________परी ऍम श्लोक

19 comments:

  1. असहमत हूँ मैं शब्द "सदैव" से...

    ReplyDelete
  2. आप तो ऐसे कह रही है जैसे स्त्री विदेह होती है …
    ध्यान रहे-जरूरत का हक़दार हर कोई है …
    और ये क्या बात हुई कि.…
    स्त्रियों को कमजोरी का तमगा पहनाया जाय.…
    और पुरुषों को ग़लत-अंदाज़ समझा जाय.…
    बड़ी चीज़ है -हिम्मत … जो सबमें होना चाहिये ……
    आख़िरकार जिसमें भी हिम्मत की कमी हुई …
    उसने कब प्रतिकूलता को चुनौती माना है …
    उसने तो हरदम समझौता ही उचित माना है …
    ....... मुझे तो यही लगता है कि प्रतिकूलता को चुनौती समझना पुरुषों की
    और उससे समझौता करना स्त्रियों की लगभग स्थायी प्रवृत्ति है ……

    ReplyDelete
  3. गहरी अर्थपूर्ण ... कुछ हद तक सत्य कहती ..

    ReplyDelete
  4. सटीक .....बहुत सुंदर विचार

    ReplyDelete
  5. काम शब्दों में खूब कहा .... कटु , पर सत्य यही है

    ReplyDelete
  6. कल 12/अगस्त/2014 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद !

    ReplyDelete
  7. par jyadatar smay me stya aisa hi hota hai...

    ReplyDelete
  8. tippani ke liye shukriyaa pradeep ji....

    ReplyDelete
  9. अधिकतर समय ऐसा होता है पर पुरुष भी समझौता करते हैं | जीवन में समझौता बहुत जरुरी है |
    अनुभूति : ईश्वर कौन है ?मोक्ष क्या है ?क्या पुनर्जन्म होता है ?
    मेघ आया देर से ......

    ReplyDelete
  10. बहुत सुंदर विचार...कुछ हद तक सत्य कहती...

    ReplyDelete

मेरे ब्लॉग पर आपके आगमन का स्वागत ... आपकी टिप्पणी मेरे लिए मार्गदर्शक व उत्साहवर्धक है आपसे अनुरोध है रचना पढ़ने के उपरान्त आप अपनी टिप्पणी दे किन्तु पूरी ईमानदारी और निष्पक्षता के साथ..आभार !!