Wednesday, August 27, 2014

"रेत की तरह"

 
****तुम्हे पाकर मुट्ठियाँ बंद कर ली थी हमने 'श्लोक' ****
******मगर नसीब से रेत की तरह तुम फिसलते चले गए
!!*****

__________परी ऍम 'श्लोक'

3 comments:

  1. बहुत खूब परी जी


    सादर

    ReplyDelete
  2. तुम तो ज़रा ठहर जाते
    मेरे नसीब को माकूल
    जवाब दे देते ...
    बहुत उम्दा...

    ReplyDelete
  3. जीवन भी तो ऐसे ही फिसल जाता है ...

    ReplyDelete

मेरे ब्लॉग पर आपके आगमन का स्वागत ... आपकी टिप्पणी मेरे लिए मार्गदर्शक व उत्साहवर्धक है आपसे अनुरोध है रचना पढ़ने के उपरान्त आप अपनी टिप्पणी दे किन्तु पूरी ईमानदारी और निष्पक्षता के साथ..आभार !!