Tuesday, August 5, 2014

"यही मेरी मोहोब्बत का परिचय है"

चढ़ बैठते हो
पलकों की मुढ़ेर पर
और
गिरा कर
तोड़ देते हो
मेरे सपनो का गमला
फहरा देते हो
अपने अरमानो का झंडा
मैं सलामी देती हूँ
बिना किसी उफ़ के
तहे दिल से झुक के

देते हो कई घाव मुझे
मैं मुस्कुरा के
फैला देती हूँ हाथ
तुम्हे अपने आग़ोश में भरने के लिए 
पागल कहो
या फिर जाहिल मुझे
पर असल में
यही मेरी मोहोब्बत का परिचय है

जो मांगता कुछ नहीं
पर देना बहुत कुछ जानता है !!


-------------परी ऍम श्लोक

4 comments:

  1. बहुत खूब ... प्रेम के एहसास लिए ...

    ReplyDelete
  2. बहुत बढ़िया परी जी

    सादर

    ReplyDelete
  3. देते हो कई घाव मुझे
    मैं मुस्कुरा के
    फैला देती हूँ हाथ
    तुम्हे अपने आग़ोश में भरने को
    पागल कहो
    या फिर जाहिल मुझे
    पर असल में
    यही मेरी मोहोब्बत का परिचय है

    ​बहुत खूब

    ReplyDelete

मेरे ब्लॉग पर आपके आगमन का स्वागत ... आपकी टिप्पणी मेरे लिए मार्गदर्शक व उत्साहवर्धक है आपसे अनुरोध है रचना पढ़ने के उपरान्त आप अपनी टिप्पणी दे किन्तु पूरी ईमानदारी और निष्पक्षता के साथ..आभार !!