Friday, October 10, 2014

पहले क्यूँ नहीं आये ??

आखिर क्यूँ नहीं आया तुम्हे
मेरा ख्याल एकबार भी
जानते भी हो...
कितना सितम सहा है मैंने  

इक उम्र तक हर पूर्णिमा का चाँद
मेरे अधूरेपन पर ताना कसता रहा
मैं जब भी तुम्हारी मौजूदगी सिद्ध करती
अमावस आकर मेरी  
कोशिशो को खंडित करता रहा    
 
तुम्हारी तलाश में सिर्फ पाँव में ही नहीं
हृदय पर भी अनगिनत छाले पड़े
कई बार खाली फ्रेम पर
ख्याली तस्वीरे लगाया
और उतारा करती थी

तुम्हारे लिए
कितने ही बारिश तरसती रही
कितने मौसम गुजर गए
कितने सावन बिसर गए
झूलती रही झूले पर जीवन के
बिलकुल तनहा अकेली 
परिस्थितियों की पैंगी मुझे 
आसमान तक लेजाकर
सतह पर लाती रही

कितना कुछ सहती रही
इस पथ पर चलते हुए 

लेकिन सच कहूँ ?
तुम्हे पाने का हौसला न
और भी खरा होता चला गया

अब जाकर मिले हो तुम
जब चार दिन की जिंदगी में से
घट गए दो दिन

भला ऐसा भी कोई करता है क्या ?

अब
कैसे पुरे होंगे सब अरमान मेरे
 
शिकायत बहुत है हाँ ....
बताओ न
अब तक कहाँ थे तुम ?
और पहले क्यूँ नहीं आये !!

 

_________ © परी ऍम 'श्लोक'

15 comments:

  1. tumhe pane ka hausala or bhi khara hota chla gya....virah ki agn me jo tapaa h whi to nikhar kr pyar banaa hai....lajwab prastuti..dil k sagar se nikali hui motiyon ki mala..

    ReplyDelete
  2. अनूठा अंदाज़ , मंगलकामनाएं आपको !

    ReplyDelete
  3. bahut badhiya pari ji...khobsoorat lafzon se sachi rachna

    ReplyDelete
  4. कितना सच सा लगता है एक एक शब्द! बहुत सुंदर! परी जी बधाई

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर ! अब तो मिल गये ना ! बचे हुए दो बहुमूल्य दिन शिकायत में ना गँवाइए और मिलन की इस घड़ी का भरपूर आनंद उठाइये ! शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  6. बहुत बढ़िया परी जी

    सादर

    ReplyDelete
  7. इतना सुन्दर मनुहार !!!
    बहुत बधाई इस अभिव्यक्ति पर.

    ReplyDelete
  8. Aap sabhi ka dhero aabhaar .... Meri rachnaaye pasand karne ke liye .. Meri in kalpnaao ko parwaaz dene ke liye ... Hardik aabhaar !!

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस' प्रविष्टि् की चर्चा आज शनिवार (11-10-2014) को पथिक हूँ मैं (चर्चा मंच: 1763) पर भी है !
    --
    सौभाग्य और सुहाग की प्रतीक
    करवाचौथ की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक

    ReplyDelete
  10. यह कविता सुन्दर भाव लिए |

    ReplyDelete
  11. इतनी शिकायत ! लेकिन इस शिकायत में भी जो अपनापन झलकता है वो जीवन के लिए जरुरी है ! सार्थक शब्द लिखे हैं आपने परी जी !

    ReplyDelete
  12. apni bhawnaon ko apne hi shabdon mein bakhoobi bayan kiya hai aapne ...new post
    http://iwillrocknow.blogspot.in/

    ReplyDelete
  13. bahut sundar ......jab jago tabhi sabera ...

    ReplyDelete
  14. इस कविता का तो जवाब नहीं !

    ReplyDelete

मेरे ब्लॉग पर आपके आगमन का स्वागत ... आपकी टिप्पणी मेरे लिए मार्गदर्शक व उत्साहवर्धक है आपसे अनुरोध है रचना पढ़ने के उपरान्त आप अपनी टिप्पणी दे किन्तु पूरी ईमानदारी और निष्पक्षता के साथ..आभार !!