Wednesday, October 29, 2014

जिंदगी तेरे सफर में ......


आज मीनाक्षी दीदी अपने नन्हे-मुन्हे बच्चो मयंक और अनन्या के साथ हमें खूबसूरत यादो का तौफा देकर अपने ससुराल वापिस रवाना हो गयी ! कुछ दिन पहले ही हमारे साथ यानी अपने मायके में रहने आई थी !
 
पता ही नही चला कब ये वक़्त इतनी तेज़ी से निकल गया और छूट गया इतना मस्तमौला सा वो वक़्त ! पूछो न मैं तो उन बच्चो में इतनी मशगूल हो जाती थी सुबह-शाम की सारी टेंशन फुर्र हो जाती थी !
 
वाकई बहुत खुश थी इनदिनों मैं पर उनके जाने पर बहुत दुःख हुआ पर वही न कितने दिन रह सकती थी वो हमारे साथ अब उनकी अपनी इक गृहस्थी है जिसकी नायिका हैं वो..
आज जब उनको ट्रैन पर बिठाया और ट्रैन के बाहर २ मिनट तक खड़ी होकर खिड़की से बच्चो व दीदी को निहारती रही उसके बाद ट्रैन अपनी मंज़िल के लिए चल पड़ी..मैं बस देखती रही ..तो बस क्या था ?उस वक़्त जो तकलीफ  मैंने महसूस किया.... वही शब्दों में ढाल रही हूँ !
 
 
 
 

7 comments:

  1. बिल्‍कुल सच कहा आपने इन पंक्तियों में

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी पोस्ट हिंदी ब्लॉग समूह में सामिल की गयी है और आप की इस प्रविष्टि की चर्चा - बृहस्पतिवार- 30/10/2014 को
    हिंदी ब्लॉग समूह चर्चा-अंकः 41
    पर लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया आप भी पधारें,

    ReplyDelete
  3. रिक्तता के अहसास को बड़ी खूबसूरती से बयान किया है ! बहुत सुन्दर !

    ReplyDelete
  4. शब्द और एहसास अक्सर मेल नहीं खाते हैं
    एहसास गहरा हो तो शब्द निरुत्तर
    शब्द बोले तो एहसास निशब्द
    आप की रचना शब्द और एहसास दोनों का बेहतरीन मेल है। बधाई एक और सुन्दर रचना के लिए ।

    ReplyDelete

मेरे ब्लॉग पर आपके आगमन का स्वागत ... आपकी टिप्पणी मेरे लिए मार्गदर्शक व उत्साहवर्धक है आपसे अनुरोध है रचना पढ़ने के उपरान्त आप अपनी टिप्पणी दे किन्तु पूरी ईमानदारी और निष्पक्षता के साथ..आभार !!