Wednesday, October 22, 2014

दिवाली यूँ मनाना.....



 
दिवाली यूँ मनाना
पटाखे कम जलाना
पर्यावरण बचाना
चाइनीज़ लाइट नहीं
मिट्टी के दीप जलाना
इसी बहाने हो जाएगा
गरीबो को
चवन्नी का ठिकाना
उजाला आस्था का
इंसानियत पर गहरा कर लेना
प्यार का जोत मन-मंदिर में जलाना
आस का फूल चढ़ाना
सरस्वती माँ को जगाना
लक्ष्मी-नारायण को बुलाना
मीठा खूब खाना
और मीठे हो जाना
सारे वैर मिटाना
ख़ुशी से जगमगाना !!

_______________
© परी ऍम 'श्लोक'




 

11 comments:

  1. सुन्दर प्रस्तुति...........दीवाली की हार्दिक शुभकामनायें! मेरी नयी रचना के लिए मेरे ब्लॉग "http://prabhatshare.blogspot.in/2014/10/blog-post_22.html" पर सादर आमंत्रित है!

    ReplyDelete
  2. सुन्दर प्रस्तुति
    दीप पर्व की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  3. दीप पर्व पर शुभकामनाऐं।

    ReplyDelete
  4. उजाला आस्था का
    इंसानियत पर गहरा कर लेना

    सुंदर संदेशयुक्त रचना।

    दीपावली की अशेष शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  5. दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं , धन्यवाद !

    ReplyDelete
  6. हैप्पी दीपावली.....शुभकामनायें

    ReplyDelete
  7. सुंदर पोस्ट...दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ...

    ReplyDelete
  8. बेहतरीन !

    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ !


    सादर

    ReplyDelete
  9. सुन्दर.... मीठा खूब खाना... नहीं जी थोड़ा कम ही खाना..... आजकल खोया भी तो नक़ली है ... शुभ दीपावली

    ReplyDelete
  10. सुन्दर प्रस्तुति
    दीप पर्व की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  11. मिट्टी के दीप जलाना
    इसी बहाने हो जाएगा
    गरीबो को
    चवन्नी का ठिकाना
    प्रेरणादायक दिल से निकले शब्द

    ReplyDelete

मेरे ब्लॉग पर आपके आगमन का स्वागत ... आपकी टिप्पणी मेरे लिए मार्गदर्शक व उत्साहवर्धक है आपसे अनुरोध है रचना पढ़ने के उपरान्त आप अपनी टिप्पणी दे किन्तु पूरी ईमानदारी और निष्पक्षता के साथ..आभार !!