Thursday, June 12, 2014

"औरत पर सितम की कहानी बांचता इतिहास है.."



















औरत पर सितम की कहानी... बांचता इतिहास है......
कभी द्रोपदी चीर हरण..कभी सीता का वनवास है......

कैसे न घुटे दम देखकर कर... ऐसी ये दागी दशा......
देश के हर कोने में... नारी अस्मत का सत्यानाश है......

सोचा निकल के घर से बाहर.. खुली हवा में सांस लूँ.....
पर अंदर है रावण का ढेरा... बाहर दरिंदो का निवास है......

मैं ही जननी..मैं ही अर्धांगिनी..मैं ही बहन..बेटी मैं ही...
फिर मेरी जात का हो रहा....क्यूँ इतना उपहास है ?.....

डर के साये में दफ़न हूँ.....जीने पर अफ़सोस हैं
मुझको कैद करके मत कहो... की तू भी तो आज़ाद है....

कल जली थी जिसमें निशा....आज आशा उसी में बर रही...
तसल्लियाँ देने वालो तुम्हे... क्या उस पीड़ा का आभास है?....

कुंठित और सड़ती मानसिकता.... इंसानियत बदहवास है.... 
सुनो ! ये सब सुरक्षा की व्यवस्था... मेरे लिए बकवास है....!!! 


______परी ऍम '"श्लोक"

5 comments:

  1. आपकी लिखी रचना शनिवार 13 सितम्बर 2014 को लिंक की जाएगी........
    http://nayi-purani-halchal.blogspot.in आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  2. हर पंक्ति में इंसानियत के नाम एक तमाचा जड़ दिया है आपने
    बहुत ही उम्दा

    रंगरूट

    ReplyDelete
  3. MUJHE LOOT LE NA KOI, GAYE THE PANAH ME,WE TO DEKHTE HI MERI, IJJAT LUTA GAYE....................BAHUT SATYA LIKHA HAI APNE,MERI SHUBH KAMANAYE AAPKO

    ReplyDelete

मेरे ब्लॉग पर आपके आगमन का स्वागत ... आपकी टिप्पणी मेरे लिए मार्गदर्शक व उत्साहवर्धक है आपसे अनुरोध है रचना पढ़ने के उपरान्त आप अपनी टिप्पणी दे किन्तु पूरी ईमानदारी और निष्पक्षता के साथ..आभार !!